Photography

हमें लगता था कि भारत की छतों पर ही अतरंगी नज़ारे दिखते हैं, लेकिन रूस की बालकनियां भी किसी से कम नहीं!

हमें लगता था कि भारत की छतों पर ही अतरंगी नज़ारे दिखते...

भारत की छतों पर तो कूड़ा, लकड़ी या कोई अन्य सामान मिलता ही हैं जितना उल्टा सीधा समान...