New Sad Shayari in Hindi

यहाँ पर पढ़िए इश्क़, प्यार, मोहब्बत, और ज़िन्दगी से जुड़ी बहुत ही सैड शायरी हिंदी में।

New Sad Shayari in Hindi

मोहब्बत की आजतक बस दो ही

बातें अधूरी रही,

एक मै तुझे बता नही पाया, और

दूसरी तुम समझ नही पाये..

......................................................................................

कुछ ना बचा मेरे इन, दो खाली हाथों में,

एक हाथ से किस्मत रूठ गई,

तो दूसरे हाथ से मोहब्बत छूट गई।

......................................................................................

जिंदगी में कुछ हसीन पल यूंही गुजर जाते हैं

रह जाती हैं यादें और इंसान बिछड़ जाते हैं।

......................................................................................

कुछ अजीब सा चल रहा है, ये वक्त का सफर…

एक गहरी सी खामोशी है खुद के ही अंदर…

......................................................................................

बहुत दर्द देती हैं तेरी यादें

सो जाऊं तो जगा देती हैं

जग जाऊं तो रुला देती हैं।

......................................................................................

तुम्हारी और हमारी रात में बस फर्क इतना है

तुम्हारी सो के गुजरती है

हमारी रो के गुजरती है।

......................................................................................

कहीं जीत तो कहीं हार के निशान हैं,

कौन जाने, हम कितने दिन के मेहमान हैं।

......................................................................................

ना जिंदगी मिली ना वफा मिली,

क्यों हर खुशी हमसे खफा मिली,

झूठी मुस्कान लिए दर्द छुपाते रहे,

सच्चे प्यार की हमे क्या सजा मिली.!

......................................................................................

हँसते बहुत हैं, मुस्कुराते कम हैं,

रोते नही बस आँखें नम हैं,

सवाल सी जिंदगी है, जवाब कोई नही,

शोर तो बहुत है, पर उसकी आवाज कोई नही..!

......................................................................................

दिल में जो है, वो सब सच बता देता हूं,

किस्मत खराब इतनी जिसको चाहता हूं उसी को गंवा देता हूं।

मेरी तलाश का है जुर्म

या मेरी वफ़ा का कसूर,

जो दिल के करीब आया

वही बेवफा निकला।

......................................................................................

इस तरह से लोग रूठ गए मुझसे,

जैसे मुझसा बुरा दुनिया में कोई और नही।

......................................................................................

धीरे धीरे वो हमें अपनी जिंदगी से हटाते रहे,

बताकर मजबूरियां हमे वो अपना दिल कहीं और लगाते रहे।

......................................................................................

अधूरे चांद से फरियाद तो करता होगा,

वो मुझे ज्यादा नही पर याद तो करता होगा..!!

......................................................................................

दर्द मुझको ढूंढ लेता है रोज नए बहाने से,,

वो हो गया है वाकिफ मेरे हर ठिकाने से!

......................................................................................

इस छोटे से दिल में, किस-किस को जगह दूं मैं,

गम रहे…दम रहे…फरियाद रहे…या तेरी याद..!!

......................................................................................

उसके दर पर दम तोड़ गईं

तमाम ख्वाहिशें मेरी,

मगर वो पूछ रहा है

तेरे रोने की वजह मै तो नही।।